Home राजस्थान समाचार बैडरूम में पांच फीट लंबा कोबरा बैड पर फन फैलाए देख घर...

बैडरूम में पांच फीट लंबा कोबरा बैड पर फन फैलाए देख घर वालों के उड़े होश, स्नैककेचर को डसने के लिए हमले करता रहा


कोटा8 मिनट पहले

कोटा। धानमंडी स्थित एक घर में घुसा कोबरा बैठ पर कुंडली मारे हुए।

  • कोटा में धानमंडी स्थित एक घर का मामला
  • एक ही रात को दो अलग-अलग इलाकों में घर में निकले कोबरा

(प्रवीण जैन)। जहरीले सांप अब बैडरूम तक पहुंचने लगे हैं। जी, हां, कोटा शहर में एक घर के बैडरूम में पांच फीट लंबा कोबरा निकलने से हड़कंप मच गया। कोबरा बैड पर फन फैलाए बैठ गया। घरवाले अपने बैडरूम में काला नाग देखकर सकते में आ गए। स्नैक कैचर ने मशक्कत के बाद सांप को पकड़ कर जंगल में छोड़ा। कोटा में बीती रात दो अलग-अलग इलाकों में घरों से कोबरा सांप रेस्क्यू कर जंगल में छोड़े गए।

दरअसल एयरोड्रम के पास नई धानमंडी निवासी एक परिवार के यहां बेडरूम में करीब 4 फीट लंबा कोबरा सांप घुस आया। घर के सदस्य सोने की तैयारी में थे तभी उन्हें काली चमकीली चीज बैड के पास सरकती दिखी। देखा तो वहां काला सांप था।

कोबरा को देखकर परिवार दहशत में आ गया। हो-हल्ला मचने पर आस-पास के लोग भी आ गए। तब तक कोबरा बैड पर कुंडली मारकर जम गया। यह देखकर तो पूरा परिवार सहम गया। सूचना मिलने पर स्नैक रेस्क्यूअर गोविंद शर्मा मौके पर पहुंचे। काफी मशक्कत के बाद कोबरा को सुरक्षित पकड़ा। इसके बाद लाडपुरा रेंजर संजय नागर के निर्देशानुसार इसे सुरक्षित जंगल में छोड़ा गया। गोविंद ने बताया कि यह नाग था जो काफी जहरीला होता है।

एक घर से और पकड़ा नाग
कोटा में एक और घर से नाग को रेस्क्यू किया गया। डकनिया स्टेशन स्थित एक मकान से करीब 3 फीट लंबा कोबरा रेस्क्यू किया गया। स्नैक कैचर गोविंद शर्मा ने ही इसे पकड़ा। नाग को सुरक्षित जंगल में छोड़ दिया गया। दोनों जगहों पर सांप ने किसी को डसा नहीं।

कोटा में लगातार निकल रहे हैं सांप
कोटा में पिछले साल आई बाढ़ के बाद से लगातार सांप घरों-दुकानों में निकल रहे। वहीं इस साल जनवरी से अभी तक 650 सांप रेस्क्यू किए जा चुके हैं। रेस्क्यू किए सांपों का ब्यौरा इस प्रकार है –

सांप कितने रेस्क्यू किए
कोबरा 150
करैत 6
रसेल वाइपर 2
सॉ स्केल्ड वाइपर 3
अन्य सांप 489
कुल सांप 600

इसलिए निकल रहे अधिक सांप
स्नेक रेस्क्यू एक्सपर्ट विष्णु शृंगी के अनुसार कोटा में अधिक सांप निकलने का मुख्य कारण है कि कोटा संभाग के लोग सांप को मारने में विश्वास नहीं करते हैं। इसके अलावा यहां पर सांपों के लिए पर्याप्त अनुकूल माहौल और ब्रीडिंग एरिया होने से भी सांपों की अच्छी तादाद है।

साथ ही सांपों के प्रति अवेयरनेस के कार्यक्रम भी यहां प्रोफेसर विनोद महोबिया संस्थाओं की ओर से काफी लंबे समय से चलाए जा रहे हैं। इससे भी सांपों की मृत्यु दर कम हो रही है और यह अधिक निकल रहे हैं। उन्होंने बताया कि राजस्थान में कोटा और उदयपुर में सबसे अधिक सांप निकलते हैं। अभी कुछ दिन पहले जिले में रावतभाटा के पास चलती कार में चालक के पैर से लिपट हुआ विशल सांप डैशबोर्ड पर आगर बैठ गया था।



Source link

ADMINhttps://currentnewsinhindi.com
I am a Content Writer, i am watching whole world current news then after publish in our news blog for our viewer with original source link.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

20 हजार करोड़ रुपये के कर विवाद मामले में वोडाफोन की जीत को चुनौती देगी सरकार : सूत्र

अंतरराष्ट्रीय मध्यस्थता न्यायाधिकरण के फैसले को चुनौती देगी सरकार (प्रतीकात्मक तस्वीर)नई दिल्ली: 20 हजार करोड़ रुपये के कर विवाद (Tax Dispute) मामले में...

लक्षणरहित कोविड-19 पीड़ित जल्दी खो देते हैं एन्टीबॉडी : अध्ययन

लक्षणरहित कोविड-19 पीड़ित जल्दी खो देते हैं एन्टीबॉडी : अध्ययनलंदन: ब्रिटेन के एक अध्ययन के अनुसार, जिन लोगों में कोविड-19 के लक्षण पाए...

NRC से ‘अयोग्य लोगों को हटाने’ के आदेश का मामला जाएगा सुप्रीम कोर्ट, डाली जाएंगी नई याचिकाएं

NRC कोऑर्डिनेटर ने फाइनल लिस्ट से बड़ी संख्या में नाम हटाने के आदेश दिए थे. (प्रतीकात्मक तस्वीर)गुवाहाटी: असम NRC (National Register of Citizens)...

बंगाल में बीजेपी कार्यकर्ता का शव पेड़ से लटकता मिला, तृणमूल पर लगाया हत्या का आरोप

प्रतीकात्मक फोटो.दतन (पश्चिम बंगाल): पश्चिम बंगाल के पश्चिम मेदिनीपुर जिले में सोमवार की शाम को एक गांव के बाहर बीजेपी के एक कार्यकर्ता...