Home देश समाचार सर्वसम्मत बहुपक्षीय कार्यढांचे के जरिए हासिल किया जा सकता है परमाणु निरस्त्रीकरण:...

सर्वसम्मत बहुपक्षीय कार्यढांचे के जरिए हासिल किया जा सकता है परमाणु निरस्त्रीकरण: विदेश सचिव


श्रृंगला ने ‘‘परमाणु हथियारों को पूरी तरह समाप्त करने” के लिए अंतरराष्ट्रीय दिवस मनाने की खातिर उच्च स्तरीय डिजिटल पूर्ण बैठक को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘भारत सार्वभौमिक, सत्यापन योग्य और भेदभाव रहित परमाणु निरस्त्रीकरण के प्रति अपनी पुरानी प्रतिबद्धता को दर्शाता है, ताकि निरस्त्रीकरण पर संयुक्त राष्ट्र महासभा के पहले विशेष सत्र के अंतिम दस्तावेज (एसएसओडी-1) के अनुरूप परमाणु हथियार पूरी तरह नष्ट हो सकें.” 

यह भी पढ़ें: UN में स्मृति ईरानी ने कहा, ‘भारत के कानून ने महिला सशक्तीकरण को बढ़ावा दिया’

उन्होंने कहा कि परमाणु निरस्त्रीकरण को लेकर भारत के रुख के बारे में 2006 में संयुक्त राष्ट्र महासभा प्रथम समिति और 2007 में निरस्त्रीकरण सम्मेलन में सौंपे गए कार्य पत्र में बताया गया था. श्रृंगला ने कहा, ‘‘हमारा मानना है कि परमाणु निरस्त्रीकरण को सार्वभौमिक प्रतिबद्धता एवं सर्वसम्मत बहुपक्षीय खाके के तहत क्रमिक प्रक्रिया के जरिए हासिल किया जा सकता है. भारत परमाणु हथियार रखने वाले सभी देशों के बीच भरोसा कायम करने के लिए अर्थपूर्ण वार्ता की आवश्यकता को लेकर आश्वस्त है.” 

उन्होंने कहा, ‘‘भारत परमाणु हथियार रखने वाले देशों के खिलाफ (परमाणु हथियारों का) ‘पहले इस्तेमाल नहीं’ करने और परमाणु हथियार नहीं रखने वाले देशों के खिलाफ ‘इस्तेमाल नहीं करने’ की नीति का समर्थन करता है.” यह उच्च स्तरीय बैठक दो अक्टूबर को महात्मा गांधी की जयंती पर मनाए जाने वाले अंतरराष्ट्रीय अहिंसा दिवस के अवसर पर आयोजित की गई.

यह भी पढ़ें:UN में भारत ने कहा- विश्व में “अल्पसंख्यकों का किलिंग फील्ड” माना जाता है पाकिस्तान

श्रृंगला ने गांधी के हवाले से कहा, ‘‘आप जो करेंगे, वह बहुत कम होगा, लेकिन यह बहुत महत्वपूर्ण है कि आप करें.” उन्होंने कहा कि भारत ‘‘परमाणु हथियारों से मुक्त दुनिया के नेक लक्ष्य” को हासिल करने के लिए अन्य देशों के साथ मिलकर काम करने के लिए तैयार है. इस समारोह में संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने कहा कि परमाणु निरस्त्रीकरण संयुक्त राष्ट्र के अस्तित्व में आने के बाद से ही संगठन की प्राथमिकता रहा है. उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र की स्थापना के 75 साल बाद भी और हिरोशिमा एवं नागासाकी में भयावह बमबारी के बाद भी दुनिया परमाणु विनाश के साये में जी रही है.

गुतारेस ने कहा, ‘‘कुछ देशों को लगता है कि परमाणु हथियार राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए अहम हैं दुर्भाग्य की बात है कि परमाणु हथियारों को पूरी तरह से नष्ट करने की दिशा में प्रगति रुक गई है.” उन्होंने कहा कि परमाणु हथियार रखने वाले देशों के बीच बढ़ते अविश्वास और तनाव के कारण परमाणु हमले का खतरा और बढ़ गया है. गुतारेस ने अपील की, ‘‘ हम सभी की सुरक्षा के लिए दुनिया को परमाणु निरस्त्रीकरण के साझे पथ की ओर लौटना चाहिए.”

आखिर कब तक भारत को संयुक्त राष्ट्र के फैसले लेनी वाली संस्थाओं से अलग रखा जाएगा: पीएम मोदी

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

ADMINhttps://currentnewsinhindi.com
I am a Content Writer, i am watching whole world current news then after publish in our news blog for our viewer with original source link.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

IPL 2020: किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाड़ियों ने स्विमिंग पूल में की मस्ती-Video|cricket Videos in Hindi – हिंदी वीडियो, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी वीडियो में

IPL 2020 में किंग्स इलेवन पंजाब ने जबर्दस्त वापसी की है, उसने पिछले तीनों मैचों में जीत हासिल कर प्लेऑफ की उम्मीदें बरकरार...

वित्त मंत्रालय ने कर्ज पर ब्याज छूट को लेकर दिशानिर्देश जारी किया

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (फाइल फोटो)नई दिल्ली: वित्त मंत्रालय ने कोविड-19 संकट के कारण भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की तरफ से कर्ज चुकाने...