Home SPORTS NEWS हिटलर की मौजूदगी में 15 अगस्त को ध्यानचंद ने लहराया था भारत...

हिटलर की मौजूदगी में 15 अगस्त को ध्यानचंद ने लहराया था भारत का परचम

[ad_1]

हिटलर की मौजूदगी में 15 अगस्त को ध्यानचंद ने लहराया था भारत का परचम

ध्यानचंद ने 15 अगस्त के दिन रचा था इतिहास

स्वतंत्रता से 11 साल पहले ध्यानचंद की अगुवाई में भारत ने जर्मनी (India vs Germany) को ओलिंपिक फाइनल में हराया था.

नई दिल्ली. भारत को स्वतंत्रता मिलने से 11 साल पहले ही 15 अगस्त का दिन ध्यानचंद की अगुवाई में भारतीय हॉकी के करिश्मे के दम पर इतिहास में दर्ज हो गया था जब हिटलर की मौजूदगी में हुए बर्लिन ओलंपिक फाइनल में भारत ने जर्मनी को हराकर पीला तमगा अपने नाम किया था. ओलंपिक के उस मुकाबले और हिटलर के ध्यानचंद (Dhyan Chand) को जर्मन नागरिकता का प्रस्ताव देने की दास्तां भारतीय हॉकी के लीजेंड्स में शुमार है.

जर्मनी एकादश से अभ्यास मैच में हार गई थी टीम इंडिया
ध्यानचंद (Dhyan Chand) के बेटे और 1975 विश्व कप में भारत की खिताबी जीत के नायकों में शुमार अशोक कुमार ने ‘भाषा’ से कहा, ‘उस दिन को वह (ध्यानचंद) कभी नहीं भूले और जब भी हॉकी की बात होती तो वह उस ओलंपिक फाइनल का जिक्र जरूर करते थे.’ समुद्र के रास्ते लंबा सफर तय करके भारतीय हॉकी टीम हंगरी के खिलाफ पहले मैच से दो सप्ताह पहले बर्लिन पहुंची थी लेकिन अभ्यास मैच में जर्मन एकादश से 4 -1 से हार गई. पिछले दो बार की चैम्पियन भारत ने टूर्नामेंट में लय पकड़ते हुए सेमीफाइनल में फ्रांस को 10- 0 से हराया और ध्यानचंद ने चार गोल दागे.

टूट गया था ध्यानचंद का दांतफाइनल में जर्मन डिफेंडरों ने ध्यानचंद को घेरे रखा और जर्मन गोलकीपर टिटो वार्नहोल्ज से टकराकर उनका दांत भी टूट गया. ब्रेक में उन्होंने और उनके भाई रूप सिंह ने मैदान में फिसलने के डर से जूते उतार दिये और नंगे पैर खेले. ध्यानचंद ने तीन और रूप सिंह ने दो गोल करके भारत को 8-1 से जीत दिलाई. अशोक ने कहा, ‘उस मैच से पहले की रात उन्होंने कमरे में खिलाड़ियों को इकट्ठा करके तिरंगे की शपथ दिलाई थी कि हमें हर हालत में यह फाइनल मैच जीतना है. उस समय चरखे वाला तिरंगा था क्योंकि भारत तो ब्रिटिश झंडे तले ही खेल रहा था.’

उन्होंने कहा , ‘उस समय विदेशी अखबारों में भारत की चर्चा आजादी के आंदोलन , गांधीजी और भारतीय हॉकी को लेकर होती थी. वह टीम दान के जरिये इकट्ठे हुए पैसे के दम पर ओलंपिक खेलने गई थी. जर्मनी जैसी सर्व सुविधा संपन्न टीम को हराना आसान नहीं था लेकिन देश के लिये अपने जज्बे को लेकर वह टीम ऐसा कमाल कर सकी.’ उन्होंने कहा, ‘इस मैच ने भारतीय हॉकी को विश्व ताकत के रूप में स्थापित कर दिया. इसके बाद बलबीर सिंह सीनियर, उधम सिंह और केडी सिंह बाबू जैसे कितने ही लाजवाब खिलाड़ी भारतीय हॉकी ने दुनिया को दिये.’ उन्होंने बताया कि 15 अगस्त 1936 के ओलंपिक मैच के बाद खिलाड़ी वहां बसे भारतीय समुदाय के साथ जश्न मना रहे थे लेकिन ध्यान (ध्यानचंद) कहीं नजर नहीं आ रहे थे.

तिरंगे तले जीतना चाहते थे ध्यानचंद
अशोक ने कहा, ‘हर कोई उन्हें तलाश रहा था और वह उस स्थान पर उदास बैठे थे जहां तमाम देशों के ध्वज लहरा रहे थे. उनसे पूछा गया कि यहां क्यो उदास बैठे हो तो उनका जवाब था कि काश हम यूनियन जैक की बजाय तिरंगे तले जीते होते और हमारा तिरंगा यहां लहरा रहा होता.’ वह ध्यानचंद का आखिरी ओलंपिक था. तीन ओलंपिक के 12 मैचों में 33 गोल करने वाले हॉकी के उस जादूगर ने अपनी टीम के साथ 15 अगस्त 1947 से 11 साल पहले ही भारत के इतिहास में इस तारीख को स्वर्णिम अक्षरों में लिख दिया था.



[ad_2]

Source link

Muzaffar SHEIKHhttps://currentnewsinhindi.com
Muzaffar Sheikh : Author, Marketer , Content Writer. Running this blog site for posting News from India and All over the world. Everybody writes here muzaffar.h.sheikh@gmai.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

बिहार चुनाव: PM मोदी ने लोगों से की वोट डालने की अपील, बोले- लोकतंत्र के इस उत्सव को सफल बनाएं, मास्क जरूर पहनें

Bihar Polls 2020: पीएम मोदी की मतदाताओं से भारी वोटिंग की अपील (फाइल फोटो)पटना: बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Elections 2020) के दूसरे...

दूसरे दिन भी 16 एक्सप्रेस ट्रेनों के मार्ग बदले, आज भी नहीं चलेगी जनशताब्दी ट्रेन

भरतपुरएक घंटा पहलेकॉपी लिंकभरतपुर. बस स्टैंड पर खड़ी यूपी और जयपुर डिपो की बसें।रेलवे ने दूसरे दिन (अप ट्रेनों में) नंदा देवी, गोल्डन...

अमेरिका में आज राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान, डोनाल्ड ट्रंप और जो बिडेन हैं आमने-सामने

नई दिल्ली: US President Elections 2020: दुनिया के सबसे पुराने लोकतंत्र अमेरिका में मंगलवार को राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान होना है. डेमोक्रैटिक...