Home राजस्थान समाचार First electric train will run from Ajmer to Delhi from Tuesday |...

First electric train will run from Ajmer to Delhi from Tuesday | पहली इलेक्ट्रिक ट्रेन मंगलवार से अजमेर-दिल्ली के बीच दौड़ेगी, कोच और किराया वही; पैसेंजर्स का आधा घंटा बचेगा


जयपुर32 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • जयपुर से इलेक्ट्रिक ट्रेनों के संचालन में अभी समय लगेगा
  • रेलवे ने राजस्थान के 1814 किलोमीटर रूट पर इलेक्ट्रिफिकेशन किया

(शिवांग चतुर्वेदी)। रेलवे में पिछले कुछ समय से ट्रेनों में से डीजल इंजन को रिप्लेस करने की प्रक्रिया जोरों पर चल रही है। देशभर में 50 फीसदी से भी अधिक ट्रैक का इलेक्ट्रिफिकेशन किया जा चुका है। इसी के तहत मंगलवार से उत्तर पश्चिम रेलवे की पहली इलेक्ट्रिक ट्रेन की शुरुआत की जाएगी। यह ट्रेन अजमेर से दिल्ली सराय रोहिल्ला वाया रींगस-फुलेरा (आरपीसी) होकर संचालित होगी।

रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि ट्रेन नंबर 02066 दिल्ली सराय रोहिल्ला-अजमेर जनशताब्दी 27 जुलाई को दिल्ली से शाम सवा चार बजे इलेक्ट्रिक इंजन के साथ रवाना होगी। यह देर रात 10:35 बजे अजमेर पहुंचेगी। वापसी में ट्रेन नंबर 02065 अजमेर-दिल्ली सराय रोहिल्ला जनशताब्दी 28 जुलाई को अजमेर से अल सुबह 05:40 बजे रवाना होकर 11:35 बजे दिल्ली पहुंचेगी।

कोच और किराया वही, औसत स्पीड बढ़ेगी और समय कम लगेगा
ट्रेन में कोच और किराया में किसी तरह का कोई परिवर्तन नहीं होगा। लेकिन आने वाले समय में ट्रेन की औसत स्पीड बढ़ेगी और इस दूरी को तय करने में लगने वाला समय भी कम लगेगा। रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इलेक्ट्रिक इंजन का एक्सीलरेशन/डी समय कम होने के कारण संचालन समय में कमी आती है। आने वाले समय में रेलवे द्वारा जारी किए जाने वाले नए टाइम टेबल में ट्रेन के संचालन समय में 20 से 30 मिनट तक समय की बचत होने की संभावना है।

वहीं रेल मामलों के जानकार डी पी मिश्रा के अनुसार डीजल इंजन पैसेंजर ट्रेन की औसतन स्पीड 40 किमी./घंटा रहती है। ट्रेनों का विद्युतीकरण होने से औसत स्पीड बढ़कर 65 किमी./घंटा पहुंच जाएगी। एक्सप्रेस ट्रेन की बात करें तो डीजल इंजन एक्सप्रेस ट्रेन की औसत स्पीड 80 किमी./घंटा है। इलेक्ट्रिफिकेशन के बाद औसत स्पीड 105 किमी./घंटा तक पहुंच जाएगी। जानकारों के अनुसार औसत स्पीड बढ़ने से यात्रियों का आधा घंटा बच जाएगा।

1814 किलोमीटर रूट पर इलेक्ट्रिफिकेशन, लेकिन ट्रेन 250 किलोमीटर रूट पर ही दौड़ रही
रेलवे ने जून 2020 तक राजस्थान, हरियाणा और पंजाब के क्षेत्र से गुजरने वाले 1814 किलोमीटर रूट पर इलेक्ट्रिफिकेशन पूरा कर लिया है। इसमें से सिर्फ 250 किलोमीटर ट्रैक पर ही इलैक्ट्रिक ट्रेनों का संचालन शुरू हो पाया है। इससे ना तो रेलवे को और ना यात्रियों को इलैक्ट्रिक ट्रेन का लाभ मिल पा रहा है।

अगर इन रुट पर इलैक्ट्रिक ट्रेनों का संचालन शुरू हो जाता, तो जहां रेलवे को ईंधन की खपत कम होने से आर्थिक फायदा होता, वहीं ट्रेनों की स्पीड बढ़ने से यात्री भी कम समय में अपने गंतव्य तक पहुंच पाएंगे। इसके साथ ही रेलवे के सोशल कॉज ग्रीन एनवायरमेंट को भी पूरा किया जा सकता था।

जयपुर से इलेक्ट्रिक ट्रेन अगले साल से पहले नहीं
देशभर में विद्युतिकरण से जुडे कार्य केंद्रीय रेल विद्युतिकरण संगठन (कोर), रेलवे का पीएसयू राइट्स आरवीएनएल कर रहे हैं। उत्तर पश्चिम रेलवे में अधिकांश कार्य कोर और राइट्स कर रहा है। राइट्स द्वारा जयपुर-सवाईमाधोपुर के बीच इलेक्ट्रिफिकेशन का काम पूरा कर लिया गया है। बावजूद इसके इस साल इस रुट पर बिजली की ट्रेन नहीं संचालित हो सकेंगी। ऐसा इसलिए क्योंकि पिछले दिनों जयपुर स्टेशन पर यार्ड रिमॉडलिंग किए जाने के चलते कई ऑपरेशनल प्वॉइंट्स नए बनाए गए हैं।

वहीं सिग्नलिंग सिस्टम भी नई विकसित की गई है। जिसके कारण कोर के अधिकारियों की दलील है कि अब दोबारा से ड्रॉइंग बनाई जाएगी और नए सिरे से योजना बनाकर कार्य शुरू किया जाएगा। जिसे पूरा होने में फरवरी तक का समय लगना था। लेकिन पहले ही कार्य शुरू होने में देरी हो गई थी। अब कोरोना के चलते काम ठप है। सूत्रों की मानें तो इस साल के अंत तक की ही इसे पूरा किया जा सकेगा। गौरतलब है कि राइट्स ने सवाईमाधोपुर से शिवदासपुरा तक का काम पूरा कर दिया है और इसे सीआरएस ने मंजूरी भी दे दी है।

0



Source link

ADMINhttps://currentnewsinhindi.com
I am a Content Writer, i am watching whole world current news then after publish in our news blog for our viewer with original source link.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

हरियाणवी सिंगर पर फायरिंग कर धमकी देने के आरोपी धत्तरवाला में डकैती की योजना बनाते पकड़े

झुंझुनूं21 मिनट पहलेकॉपी लिंकदतौली में मशहूर हरियाणवी सिंगर सुमित गोस्वामी पर फायरिंग करने के आरोपी जिले के धत्तरवाला गांव में डकैती की योजना...

भारत ने ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल के लड़ाकू विमान से दागे जा सकने वाले प्रारूप का परीक्षण किया

सुखोई एमकेआई-30 विमान (फाइल फोटो).नई दिल्ली: भारतीय वायुसेना ने ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल के लड़ाकू विमान से दागे जा सकने वाले प्रारूप का...