Home खेल समाचार IPL 2020: अब आखिरी ओवर में जीत नहीं, हार की गारंटी देते...

IPL 2020: अब आखिरी ओवर में जीत नहीं, हार की गारंटी देते हैं धोनी!


एमएस धोनी (फोटो-CSK)

IPL 2020: मौजूदा आईपीएल में ये दूसरा मौका था जब आखिरी ओवर में धोनी (Dhoni) के रहते हुए चेन्नई को जीत नहीं मिली.

दुबई. दबाव में किसी मैच को जीतना महेन्द्र सिंह धोनी (MS Dhoni) की पहचान थी. आखिरी ओवर में हारी बाजी को जीतना धोनी की फितरत थी. टीम चाहे लाख मुश्किल में हो लोग कहते थे अगर माही है तो जीत की गारंटी है. लेकिन ऐसा लग रहा है कि डेढ़ दशक के बाद ये सारी उम्मीदें अब खत्म हो रही है. 39 साल के माही का जादू अब फीका पड़ रहा है. शुक्रवार को आखिरी ओवर में धोनी के नॉट आउट रहने के बाद भी चेन्नई सुपर किंग्स को सनराइजर्स हैदराबाद (CSK Vs SRH) के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा.

फेल हो गया धोनी का फॉर्मूला!
विकेट बचा कर रखना और आखिरी के कुछ ओवरों में हमला करना ये सालों से धोनी के लिए जीत का फॉर्मूला रहा है. शुक्रवार को भी ऐसा ही हुआ. छठे और सातवें नंबर पर बैटिंग करने वाले धोनी सनराइजर्स के खिलाफ पांचवें नंबर पर खेलने के लिए आए. लगा कि आज चेन्नई के लिए हार का सिलसिला खत्म हो जाएगा. लक्ष्य भी बहुत बड़ा नहीं 165 रनों का था. धोनी के क्रीज पर आने के वक्त चेन्नई को जीत के लिए हर ओवर में 9.21 की औसत से रनों की दरकार थी. हमेशा की तरह लगा कि अगर धोनी आखिरी ओवर तक टिक गए फिर तो चेन्नई की जीत पक्की है. लेकिन ओवर दर ओवर लक्ष्य दूर खिसकता गया. आखिरी चार ओवर में 78 रन बनाने थे. इसके बाद आखिरी ओवर में जीत के लिए चेन्नई को 28 रनों की जरूरत थी, लेकिन धोनी के रहते हुए भी चेन्नई की टीम ये मैच नहीं जीत सकी.

आखिरी ओवर में धोनी का फ्लॉप शोमौजूदा आईपीएल में ये दूसरा मौका था ता जब आखिरी ओवर में धोनी के रहते हुए चेन्नई को जीत नहीं मिली. ऐसा राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ मैच में भी हुआ था. इस मैच के आखिरी ओवर में धोनी ने तीन छक्के लगाए. लेकिन धोनी का ये हमला तब देखने को मिला जब बाजी चेन्नई के हाथ से निकल चुकी थी. इसके अलावा दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ वो आखिरी ओवर में आउट हो गए थे. आंकड़ों पर नजर डालें तो ये छठी बार है जब आईपीएल में धोनी के नॉट आउट रहते हुए भी चेन्नई को हार का सामना करना पड़ा है.

खत्म हो गया जादू!
धोनी ने इस साल 15 अगस्त को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास का ऐलान किया था. पिछले साल वर्ल्ड कप का सेमीफाइल खलने के बाद से वो मैदान से बाहर थे. करीब एक साल तक कॉम्पिटेटिव क्रिकेट से दूर रहने के चलते धोनी अपने पुराने रंग में नहीं दिख रहे हैं. अगर धोनी ने अपनी रणनीति नहीं बदली तो तीन बार की चैंपियन चेन्नई की टीम मुश्किल में फंस सकती है.





Source link

ADMINhttps://currentnewsinhindi.com
I am a Content Writer, i am watching whole world current news then after publish in our news blog for our viewer with original source link.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

केंद्र सरकार के 30 लाख गैर-राजपत्रित अधिकारियों को मिलेगा बोनस, कुल 3,737 करोड़ खर्च होंगे

केंंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (फाइल फोटो).नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 2019-2020 के लिए उत्पादकता से जुड़े बोनस और गैर-उत्पादकता से जुड़े बोनस को...

‘स्मृति दिवस’ पर अमित शाह ने की पुलिसबल की तारीफ, बोले- कोरोना से डटकर लड़ रहे हमारे योद्धा

अमित शाह ने पुलिस और केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल के जवानों और अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा, 'वर्दी में मौजूद ये योद्धा...

भारत में COVID-19 के कुल केस 76 लाख के पार, पिछले 24 घंटे में दर्ज हुए 54,044 मामले, 717 की मौत

Coronavirus in India: बीते 24 घंटे में 61,775 मरीज़ हुए ठीकनई दिल्ली: Coronavirus in India:  बुधवार को एक बार फिर कोरोना वायरस के...